Home / INTERNET / इन्टरनेट का अविष्कार क्यों और किसने किया ?

इन्टरनेट का अविष्कार क्यों और किसने किया ?

इंटरनेट का अविष्कार किसने किया और कब किया| internet ka avishkar

internet-ka-avishkar
internet-ka-avishkar

हम सभी भलीभांति जानते है की इन्टनेट आज के लिए कितना महत्वपूर्ण हो चूका है इन्टरनेट हमे बहुत सारी सुविधा प्रदान करता है घर बैठे बहुत से सामान मंगवाना से लेकर ट्रेन की टिकट ऑनलाइन बुकिंग , किसी की चीज़ के बारे में जानना हमारे लिए बहुत आसान हो गया है
लेकिन आज हम ये जानेंगे की इन्टरनेट की खोज कैसे हुई इसकी शुरुआत कहा से हुई

 internet ka avishkar हमें शीत युद्ध की याद दिलाता है उस कार्य कालीन में मौजूद अमेरिकी सुरक्षा एजेंसी को यह खतरा था की हमारे देश में परमाणु हमला न हो जाये, उन्होंने एक ऐसा नेटवर्क बना डाला जो सभी कंप्यूटर को एक साथ जोड़ सकता है,उनके यही खोज आज के युग में सफल साबित हुई हैं ,अमेरिकी सुरक्षा एजेंसी ने यह हैरतअंगेज काम को अंजाम दिया और नतीजा आप लोगो के सामने ही है ….
internet का सबसे पहले खोज सन 1969 में DOD(Deparment of Defense) के द्वारा शुरू किया गया था उस समय अमेरिकी सरकार के अमेरिकी रक्षा विभाग के द्वारा कम्युनिकेशन नेटवर्किंग करके internet की संरचना बनाई गयी जिससे internet में संचार सुचना का आदान प्रदान का जो माध्यम का इस्तेमाल किया जाता है उसे TCP(ट्रांसमिशन कण्ट्रोल प्रोटोकॉल)या फिर इससे IP(इन्टरनेट प्रोटोकॉल) कहा जाता है
इन्टरनेट के अविष्कार के बाद इसको और भी सुविधाजनक बनाने के लिए और भी कई अविष्कार किये गए , इन्टरनेट का इस्तेमाल करने के लिया कंप्यूटर में ब्राउजर की आवश्यकता होता है तो कंप्यूटर के लिए ब्राउजर बनाया गया , जब भी हम इन्टरनेट के द्वारा कंप्यूटर में website खोलते है या फिर किसी वेब ब्राउजर में वेबसाइट ओपन करते है तो web site में एड्रेस पहले से वर्ल्ड वाइड वेब शुरू हुआ होता है WWW(WORLD WIDE WEB)यह एक डेटा बेस है इसमें विश्व की सारी जानकारियों का समावेश होता है, इन्टरनेट का इस्तेमाल करके ही WWW से जानकारी ले सकते है

World wind web की खोज 30 अप्रैल 1993 को सर्न नाम के वैज्ञानिक ने की थी जो पूरे दुनिया में मुफ्त है और इसको success बनाने की पीछे और भी व्यक्तियों का योगदान रहा है internet की खोज ने दुनिया भर में क्रांति ला कर रख दिया है इसकी वजह से technology,network और भी ज़यादा advance हो गया आज के युग में एक मिनट भी internet बंद हो जाये तो लाखो करोड़ों का नुकसान हो जायेगा
google के आने के बाद इन्टरनेट को समझना और भी ज़यादा आसान हो गया गूगल एक सर्च इंजन है जो की हमारे स्पेलिंग में गलती से लेकर हमारे द्वारा प्रश्न के उत्तर भी एक linkया pageके द्वारा देता है , google का खोज 4 नवम्बर 1994 को दो महान अमेरिकी वैज्ञानिक Sergey Brin और Larry Page ने की ,शुरू में इसका नाम googol था जिसका मतलब था 1 . के पीछे 100 . अर्थात् एक प्रश्न पर ये हमें कई तरह के जानकारी मुफ्त में प्रदान करता लेकिन स्पेलिंग में गलती होने की वजह से ये google नाम से प्रसिद्ध हो गया और आज तक इसका सुधार ही नहीं किया गया .
दोस्तों इन्टरनेट का ये पोस्ट आप सभी को कैसा लगा हमे कमेंट बॉक्स पर ज़रूर बताये हमारा ये पोस्ट पढने के लिए धन्यवाद

Check Also

barish ke liye cloud buster Wilhelm Reich

barish ke liye machine | cloud buster in hindi

barish ke liye machine | cloud buster in hindi barish के लिए किसान क्या कुछ …