Home / FACTS / हाथी की आँख छोटी क्यों elephant eye facts

हाथी की आँख छोटी क्यों elephant eye facts

हाथी की आंख छोटी क्यों होती है.

हाथी की आँख छोटी क्यों
हाथी की आँख छोटी क्यों

हाथी वर्तमान में भू स्थल में रहने वाला सबसे बड़ा जिव है , हाथी बहुत ही सहज व थोड़े डर कर रहने वाले जीवो में से एक है , हाथी के शारीर के बड़े कान उन्हें गर्म से बचने में मदद करता है . और भारत में हाथी की पूजा भी जाता है , हाथी इतने शांत स्वाभाव का होता है क्युकी अगर वह अपने शारीर के हिसाब से सभी को देखने लग जाये तो वह धरती में तहलका मचा सके है . क्युकी हाथी की आंखे उसके शरीर के हिसाब से छोटी रहती है और यह आँख एक अलग ही तरह का हाथी को दृश्य दिखाती है ,हाथी को ज्यादा रौशनी में कम दिखाई देता है और कम रौशनी में ज्यादा . हाथी की आंखे स्थिर हो जाती है जिससे की उसकी आँखों में नमी के तौर पर आँखों से द्रव निकलता है जिस कारण हम लोग उस द्रव को आंसू समझ लेते है. लेकिन हाथी की आँख उसे लेंस के बहती दृश्य दिखाती है , जैसे हम किसी लेंस को किसी अक्षर में देखते है तो, वह अक्षर अपने आकर से ज्यादा बड़ा दिखाई देता है. उसी तरह हाथी भी हर चीज को चाहे वह चिटी हो या इंसान . हाथी उन्हें भी बड़े रूप में देखता है . इसी कारण हाथी अपने शरीर के हिसाब से हर चीज को दोगुना रूप से ज्यादा का देखता है.
हाथी कम रौशनी में अच्छे से देखता है .और इसी कारण हाथी चीटी जैसे जानवर, इंसानों के मुकाबले, अच्छे से देख सकता है. हाथी इस्ल्ये हाथी का स्वभाव शांत व थोडा डरा हुआ रहता है.

हाथी के विषय में याद रखने वाली बाते.

1 हाथी ,इंसानी आँखों का 2 गुना देखता है यानि हाथी को हर चीज आकर में 2 गुनी तक या उससे ज्यादा की दिखती है .
2 हाथी की आँख उसके शरीर के हिसाब से छोटी मानते है .
3 हाथी सहज व मित्रता दर्शाने वाला प्राणी है . तथा भारत में इनकी पूजा होती है
4 हाथी की आँखों की पुतली लेंस के सामान काम करती है ,जिसके कारण वह हर चीज को बड़े रूप में देखता है .
5 हाथी की आँखों की पुतली बहुत जल्दी सुख जाती है और उस पुतली में नमी लेन के लिए उसके आँखों से द्रव निकलता है जिसे आम लोग आंसू कह देते है.  जबकि वह आंसू नही होते .

Check Also

monalisa मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते

monalisa in hindi मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते

monalisa मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते monalisa मोनालिसा की चित्रकला को शायद ही कोई ऐसा …