Home / HEALTH / high blood pressure,उच्च रक्त चाप के उपाये

high blood pressure,उच्च रक्त चाप के उपाये

high blood pressure,उच्च रक्त चाप

high blood pressure

high blood pressure यानि उच्च रक्त चाप. एक ऐसी बीमारी है. जो ,लोगो में तेज़ी से फैल रही है , इसके विकार बहुत ही घातक होते है. यह एक सामान्य इंसान की जिन्दगी जीने के ढंग को ही बदल देता है ,और हाई ब्लड प्प्रेसर यानि उच्च रक्त चाप अपने साथ कई बीमारियों को जन्म देने लगता है. इसे ज्यादा नज़र अंदाज करने से लोगो को लकवा, heart attack( दिल का दोहरा ) , गुर्दे काम न करना, नसों का कठोर होना. और रक्त्घात जैसी घातक बिमारिय हो जाती है. . high blood pressure या जिसे हम सामान्य भाषा में हाई बीपी ( high bp )कहते है. ,यह एक स्वस्थ इंसान के साथ दिन में एक बार तो हो जाता है ,जब वह ज्यादा घुस्से में हो , कसरत करते वक़्त. उच्च रक्त चाप होता है , लेकिन इसकी बीमारी नही . यह ज़रूरत से ज्यादा किसी चीज का टेंशन लेने से या बहुत समय से किसी चीज के बारे में ज्यादा सोचने में यह विकार बीमारी के रूप में लग जाता है.
जिससे की वह इंसान जो सामान्य रहता है. ,वह पूरी तरीके से बदल जाता है. और उसके स्वभाव में चिडचिडा पन ,घुस्सा या किसी काम को करने टेंशन ज्यदा हो जाती है. फल स्वरूप वह गोलियों दवाइयों और तसमस्याओ में सपना जीवन व्यतीत करने लगता है.
रक्त चाप (high blood pressure) मुक्ति के लिए कई चीजो को त्यागना पड़ता है जैसे सिगरेट ,तम्बाखू,गुटखा व शराब के सेवन को छोड़ देना चाहिए ,क्युकी यह चीजे भी आपके high blood pressure यानि उच्च रक्त चाप को बढाती है.

इसके कई तरह के लक्षण है. जैसे :-

1 . तेज़ सर दर होना ,यह भी high blood pressure यानि उच्च रक्त चाप के लक्षण है.

2. सिने में भार लगाने या सिने में दर्द रहना भी high bp(उच्च रक्त चाप) लक्षण है.

3. देखने में धुन्दला पन या किसी और तरह का दृष्टि में विकार आना.

4. शारीर का सुन्न पड़ना या ज़ुन्ज़ुनी आ जाना.

5. चक्कर आना ,घबराहट होना या खाना निगलने में परेशानी होना यह सब भी high blood pressure यानि उच्च रक्त चाप के लक्षण है.

high blood pressure को दूर करने के लिए कई आयुर्वेदिक नुस्खे भी है. , जिनको आम इंसान नही जान पाता. और जीवन भर अपनी बीमारियों से लड़ता रहता है. और अंत तक इस बीमारी का अंत नही होता और उसका जीवन को कठिन बना देता है.

1. सफ़ेद खसखस और तरबूज के बिज की गिरी. इनको अलग अलग एक सामान मात्रा में पिस कर अलग अलग किसी डब्बे में रख ले. , अब रोजाना एक एक चम्मच इसे सुबह खली पेट व शाम को खाए .इसे खाने से हाई बिपी कम हो जायेगा और रत में एक अच्छी सी आराम दायक नीं लाने में भी मदद करेगा.

2. सिर्फ 2 हफ्ते , मेथी के दाने चूरन सुबह शाम खाने पर आपका उच्च रक्त चाप सामान्य शस्थिति में आ जायेगा. इसका स्वाद भले ही कड़वा होता है. इसके स्वाद को बदलने के लिए कोई भी चीजे न डाले.

3. सुबह सवेरे , पपीता ( जो की सिर्फ डाल से पका हो ) को खली पेट खाने के बाद. 2 घंटा न कुछ खाए ना खुच पिए . ऐसा करने से आपका high blood pressure यानि उच्च रक्त चाप सामान्य अवस्था में बना रहेगा.

4. सिर्फ गेहू से बने आटे को न उपयोग में ले. इसमें गेहू ,चना और भूसी (जिसे चोकर भी कहते है) एक सामान मात्र में मिला कर पिस्वाये, जिससे की रोटी तो स्वादिष्ट होगी ही लेकिन साथ में यह रोग भी 1 हफ्ते के अंदर ख़तम हो जायेगा.

5. ताम्बे को भी ,हाई बीपी ( high bp )को दूर करने वाली धातु कहते है. रोज़ रत में एक लोटे जो ताम्बे का बना हुआ हो , उसमे रोज रात में पानी भर के रख दे और सुबह खली पेट पिने से भी हाई बीपी ( high bp )सामान्य हो जाता है. ताम्बे के लोटे की जगह ,गिलास भी उपयोग में ला सकते है.

6. रोजाना 4 तुलसी की पत्तियों को और 2 निम की पत्तियों को केवल 2 चम्मच पानी के साथ. पिस कर ,सुबह के समय खाया जाये तो यह भी हाई बीपी ( high bp)को दूर करने में मदद करेगा. इस नुस्खे को उच्च रक्त चाप को दूर करने का सबसे आसन तरीका माना जाता है.

Check Also

tamater ,tomato ,tomato history ,tamater ke fayde

टमाटर के फायदे और इतिहास tomato health facts in Hindi

टमाटर के फायदे टमाटर के फायदे आपको जानकर हैरानी होंगे की  टमाटर की खोज इंडिया में …