monalisa मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते

monalisa in hindi मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते

monalisa मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते
monalisa मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते

monalisa मोनालिसा चित्र की अनोखी बाते

monalisa मोनालिसा की चित्रकला को शायद ही कोई ऐसा शक्श होगा जिसने देखि न हो . और यह monalisa मोनालिसा की चित्र सभी चित्रकार और कला प्रेमियों के लिए आकर्षण में बनी रही है . जो लोग monalisa मोनालिसा के चित्र से रूबरू हुए है . उन्होंने कहा की इस चित्र में एक अजीब सा आकर्षण है . जिसके कारण वह लोग उस चित्र को देखते ही रह जाते है . monalisa मोनालिसा का चित्र लेओनार्दो डा विन्ची ने बनया है .लेओनार्दो दुनिया के सबसे प्रतिभाशिली व्यक्ती है .उन्होंने हर क्षेत्र में अपनी सोच व अपनी प्रतिभा से कई अविष्कार भी किये थे . वह कला में भी आगे थे वह एक मूर्तिकार और चित्रकार भी थे . monalisa मोनालिसा की चित्र उनकी सबसे लोकप्रिय व उनकी सबसे पसंदिता चित्रकला थी.
monalisa चित्र का असली नाम monna lisa था . जिसका अर्थ था my lady. लेकिन शब्दों में गलती होने के कारण उसका नाम monalisa ही रह गया . यह चित्र (सन1503 – से-सन 1519) 16 साल तक बनाने के बाद भी अधूरी रह गयी . कहते है की nepolean bonaparte को यह चित्रकला बहुत पसंद आई और उन्होंने यह चित्र को अपने कमरे ले लगवाया. सबसे खास बात तो यह है की यह चित्र कागज या कपडे पर नही बनाया गया है .जबकि इसे लकड़ी के गत्ते पर बनाया गया है . उसके बाद यह चित्र पेरिस के म्यूज़ियम में मिली . इस बिच के समय मे
monalisa मोनालिसा की चित्रकला कहा थी और यह म्यूज़ियम तक कैसे पहुची इसका कोई जवाब नही है .

मोनालिसा का चित्र जितना मशहूर है उससे ज्यादा उस पेंटिंग में बनी महिला कौन है वह सवाल भी बहुत मशहूर हुआ . लेकिन यह अनुमान लगाया गया है की

1. वह महिला एक व्यापारी की पतनी थी .लेकिन चित्र बनाने के बाद लेओनार्दो ने वह चित्र उन्हें नही दिया और अपने पास रख लिए .
2. कई लोग कहते है की वह महिला में अपनी मा का रूप डाल रहे थे .
3. कई लोग यह कह रहे थे की लेओनार्दो ने अपने रूप को महिला के रूप में ढाल कर दिखाया है .
लेकिन
4. कई लोगो ने पुष्टि में साबित किया की .वह महिला उनके घनिष्ठ मित्र की पतनी की है .क्युकी 2005 में एक पत्र मिला था जो 1503 का था .और उसमे lisa नाम की महिला का चित्र लेओनार्दो को बनाने को कहा गया था .
लेकिन lisa नाम की लेओनार्दो के मित्र की पतनी , चित्र की महिला से पूरी तरह से अलग दिखती है .इस कारण आज तक चित्र में महिला की पहचान नही हो पायी है .

अगस्त 1911 की मोनालिसा की चित्रकला चोरी हो गयी थी .लेकिन ज्यादा खोज करने का बाद 10 साल के बाद वह चित्रकला मिली . लेकिन किसी के पत्थर फेकने से मोनालिसा के हाथ में एक खरोच आ गयी थी . तब से उस चित्र को बुलेट प्रूफ कांच में रखा गया है .तथा जहा चित्र रखा गया है वहा के कमरे का तापमान को भी काबू में कर के रखा है ताकि तापमान के कारण monalisa मोनालिसा की चित्रकला पर कोई खराबी ना आये . इस कमरे को बनाने के लिए म्यजियम वालो ने 50 करोड़ रूपए से ज्यादा खर्चा किये . जिससे यह साबित होता है की यह चित्रकला कितनी महंगी होगी .
इस चित्रकला की कीमत बहुत ज्यादा है 1962 में इसकी कीमत 99 करोड़ के करीब थी . लेकिन समय के साथ साथ इस चित्रकला की कीमत 680 करोड़ की हो गयी है .